गठिया का होम्योपैथिक इलाज | arthritis treatment in homeopathy in hindi

गठिया का होम्योपैथिक इलाज

यहाँ रोग के लक्षणों के अनुसार गठिया का होम्योपैथिक इलाज ( arthritis treatment in homeopathy in hindi ) निचे दी गयी है। हमारे शरीर की Joint में सूजन और असहनीय दर्द गठिया (Arthritis) के लक्षण है । इसके अलावा कुछ मामलों में सूजन वाला हिस्सा कठिन हो सकता है। गठिया के प्रभाव उम्र के साथ बढ़ता जाता है। परिणामस्वरूप चलने,उठने,बैठने में विभिन्न समस्याओं का सामना करना पड़ता है। युवा की तुलना में वृद्ध लोगों को ज़्यादा इस समस्या का सामना करना पड़ता है।

मुख्य रूप से दो प्रकार के गठिया (Arthritis) होते हैं ।

  • Rheumatoid arthritis – आमतौर पर शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाने से गाँठ में लिगामेंट्स सूज जाते हैं और बहुत अधिक दर्द होता हैं। यह गाँठ के उपास्थि (cartilage) को नुकसान पहुंचाता है।
  • Osteoarthritis – हड्डी के किनारे पर एक सख्त और पतली परत ( Cartilage ) होती है ।इस लिये गांठों के आंदोलन के दौरान आराम महसूस करते है । अगर कोई संक्रमण या चोट के परिणामस्वरूप यह उपास्थि (cartilage) क्षतिग्रस्त हो जाती है , तो हड्डी को हड्डी में रगड़ लगती है। तब बहुत दर्द होता है।
arthritis treatment in homeopathy in hindi

गठिया का होम्योपैथिक इलाज (arthritis treatment in homeopathy in hindi)

  • Abrotanum 200 – कंधे, हाथ, कलाई, टखने का गठिया,प्रभावित क्षेत्र की सूजन से पहले दर्द। दर्द प्रभावित क्षेत्र से छाती तक जाता है।
  • Antim Crud 200 – कम दिनों के लिए गठिया पीड़ित,उंगली का दर्द, साथ में पेट खराब होना।
  • Ammon Mur 200 – प्रभावित क्षेत्र खींचने जैसी दर्द।
  • Colchicum Q – दर्द एक जगह से दूसरी जगह जाता है,एक गाँठ से दूसरे गाँठ तक दर्द,दर्द छाती तक जाता है।
  • Angustura 200 – दो घुटने और अंग में ,गाँठ के अंदर शोर शराबा,गाँठ और मांसपेशियाँ कठिन और स्तंभित होती हैं
  • Bryonia Q – घुटने या अन्य हड्डी में गठिया, प्रभावित क्षेत्र कठोर, लाल, चमकदार, सूजा हुआ, गर्म, फाड़ देना जैसे दर्द, शरीर की हलचल में पीड़ा बढ़ जाती है,शरीर से बहुत पसीना निकलता है।
  • Radium 200 – खड़े होने या सीधे बैठने से ,हिलने-डुलने में दर्द से राहत मिलता है,कमर दर्द। रात में दर्द बढ़ जाता है,नेफ्रैटिस के साथ गठिया।
  • Calcarea Phos 200 – कमर के नीचे से हड्डी का दर्द, हर मौसम में बदलाव में शरीर में दर्द होता है।
  • Causticum 200 – प्रभावित क्षेत्र सुन्न होता है, मांसपेशियाँ टाइट होता है ,हाथ और पैर मुड़ जाते है,खींचे जाने जैसे दर्द।
  • Colocynth 200 – दर्द कम महसूस होता है लेकिन प्रभावित क्षेत्र कठिन और स्तंभित होती हैं।
  • Guaicum Q – युवा गठिया और इसकी सूजन, हड्डी की विकृति होती हैं । घुटने की सूजन और दर्द।सारे शरीर में दर्द।
  • Ledum 200 – दर्द ,सूजन टखने से शुरू होती है और यह धीरे-धीरे ऊपर की ओर उठती है,उंगलियों और पैर की उंगलियों में दर्द।
  • Rhus Tox 200 – जबड़े का गठिया, खाते या चबाते समय ऐसा लगता है की जैसे जबड़ा टूट गया है,लगातार हाय उठता है।
  • Kali Hydro 200 – घुटनों में सूजन और दर्द,रात में बिस्तर पर जाने पर दर्द में वृद्धि।

Also read : मधुमेह के लिए होम्योपैथिक दवा

homeopathic medicine for arthritis
  • Apocynum Andro Q – पैर की उंगलियों और फर्श में दर्द,पैर सूज जाता है ,पैर के निचले हिस्से में दर्द।
  • Rhododendron 200 – हाथों, उंगलियों, पैर की उंगलियों आदि में अचानक दर्द महसूस किया जाता है। दर्द एक जगह पर नहीं रहता है।
  • Kalmia 200 – गठिया धीरे-धीरे ऊपरी से निचले हिस्से में जाता है,बाएं हाथ से शुरू करते हुए नीचे जाता है।
  • Urtica Urens Q – यूरिक एसिड बढ़ने के कारण घुटने में दर्द और पीड़ा
  • आमवात का होम्योपैथिक इलाज – Guaiacum Q । इसे रोजाना सुबह में पानी के साथ खाली पेट में १० बून्द ले।
  • घुटनों के दर्द की होम्योपैथिक दवा – Bryonia Q , Kali Hydro 200 , R73
  • यूरिक एसिड की होम्योपैथिक दवा – Urtica Urens Q । इसे रोजाना सुबह में पानी के साथ खाली पेट में १० बून्द ले।

Also read : यौन समस्या के लिए होम्योपैथी दवा

अन्य बीमारी के होम्योपैथी उपचार की जानकारी प्राप्त करने के लिए, शीर्ष कोने पर ‘Menu’ पर जाएं। फिर ‘Homeopathy treatment’ पर क्लिक करें और उस बीमारी का चयन करें जिसे आप खोज रहे हैं।